पौधा संरक्षण की अद्भुत मिसाल

बच्चों की तरह पौधों की परवरिश करते हैं तुषार कांति शीट 

रांची। पर्यावरण संरक्षण की महत्ता दिन-ब-दिन बढ़ रही है। पर्यावरण को स्वच्छ रखने की दिशा में सरकारी और गैर-सरकारी स्तर पर निरंतर प्रयास जारी है। कई पर्यावरणविदों की ओर से भी व्यक्तिगत तौर पर पर्यावरण संरक्षण के लिए विभिन्न प्रकार के उपायों पर बल दिया जा रहा है। 

 ऐसे ही एक पर्यावरणविद और राजधानी रांची के जाने-माने समाजसेवी तुषार कांति शीट ने भी पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधरोपण की महत्ता को सर्वोपरि मानते हुए एक अभियान के तहत मुहिम चला रखी है। उनके इस मुहिम में कई सामाजिक कार्यकर्ता भी सहभागिता निभा रहे हैं।

 सामाजिक संस्था श्रीरामकृष्ण सेवा संघ के सहायक सचिव तुषार कांति शीट पर्यावरण संरक्षण के प्रति काफी सजग हैं। उन्होंने शहर के विभिन्न स्थलों पर अब तक तकरीबन पांच हजार पौधे लगाए हैं। इनमें फलदार,छायादार व औषधीय पौधे शामिल हैं। श्री शीट सिर्फ पौधारोपण ही नहीं करते, बल्कि अपने द्वारा लगाए गए पौधों का बच्चों की तरह परवरिश भी करते हैं। पौधों की समुचित देखभाल उनकी दिनचर्या में शुमार है। विगत वर्ष एक संस्था द्वारा शहर के डोरंडा स्थित रिसालदार बाबा मजार परिसर, निवारणपुर स्थित तपोवन मंदिर, पुन्दाग स्थित साईं मंदिर परिसर में किए गए पौधरोपण में श्री शीट ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था। उन्होंने अपने स्तर से कई फलदार व छायादार पौधे भी उपलब्ध कराए थे। 

यहां यह उल्लेख करना अप्रासंगिक नहीं होगा कि उक्त स्थलों पर लगाए गए पौधों को नियमित रूप से देखभाल करने के प्रति भी श्री शीट गंभीर रहते हैं। विगत वर्ष भारतीय स्टेट बैंक के सौजन्य से निवारणपुर स्थित आदिम जाति सेवा मंडल परिसर और बीएसवी विद्यालय परिसर में पौधरोपण किया गया था। उसमें कई फलदार व औषधीय पौधे लगाए गए थे। उन पौधों की नियमित रूप से देखभाल व उनका परवरिश करना उन्होंने अपनी दिनचर्या का एक महत्वपूर्ण अंग बना लिया है। पौधे बखूबी पुष्पित-पल्लवित होते रहें, इस दिशा में वे सतत प्रयासरत रहते हैं। उनका मानना है कि पौधों की समुचित देखभाल नहीं करने से पौधे असमय दम तोड़ देते हैं।

 इसलिए सिर्फ पौधे लगाना ही नहीं, बल्कि उनका संरक्षण और संवर्धन भी जरूरी है। श्री शीट का मानना है कि पौधे हमें जीवनदायिनी ऑक्सीजन प्रदान करते हैं। इसलिए पौधरोपण और उनका संरक्षण-संवर्धन अत्यंत जरूरी है। उन्होंने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल के दौरान ऑक्सीजन की महत्ता का संपूर्ण मानव समुदाय को एहसास हो गया है। ऐसे में प्राकृतिक रूप से हमें ऑक्सीजन देने वाले पेड़-पौधों का संरक्षण अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि कई संस्थाओं और व्यक्तिगत स्तर पर भी लोगों द्वारा पौधे लगाए तो जाते हैं, लेकिन उनके संरक्षण-संवर्धन के प्रति उदासीन रहते हैं। पौधों की समुचित देखभाल भी जरूरी है, तभी पौधरोपण का उद्देश्य सार्थक हो सकता है।

 उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण वर्तमान समय की एक गंभीर चुनौती बन गई है। ऐसे में हमें पर्यावरण को स्वच्छ रखना जरूरी है।

Post a Comment

0 Comments

Hopewell Hospital
Shah Residency IMG
S.R Enterprises IMG
Safe Aqua Care Pvt Ltd Image