ईद मिलादुन्नबी पर दिशा निर्देश जारी

 

(फाइल फोटो)

1,,,बा वजु,साफ -सुथरा और पाकीज़ा लिबास पहनकर,खुशबू लगा कर बाअदब जुलूस में शामिल हों।

2,,,सर पर अमामा शरीफ सजाएँ या कम से कम टोपी जरूर पहन लें,नंगे सर हरगिज़ नही रहे।

3,,,लब पर दरूद पाक का विर्द रखें,नात पाक पढ़ते चलें,गैर जरूरी गुफ़्तगू से परहेज़ करें।

04,,,ओलमाएं अहले सुनन्त के आदाब मलहुज़ रखते हुए इनकी कयादत में चलें इनसे आगे न निकले।

05,,,डी, जे,साउंड सिस्टम का इस्तेमाल ना करें ,हल्के मोहज्जब आवज के साउंड का इस्तेमाल करें जिसमे नाते नबी पढ़ा जा रहा हो।

06,,,जुलूस में बद नज्ज्मी से खुद भी बचें और दूसरों को भी बचाएं।

07,,,जुलूस में बटने वाले तबरुक का एहतराम करें और उसे बरबाद होने से बचाएं।

08,,, बाहम अखुवत व मोहब्बत और जज्बये खैर सेगाली का इजहार करते हुए हत्तल इम्कान जरूरत मंदों की इमदाद करें।

09,,, वक्क्त की पांबन्दी के साथ अपने अपने मुहल्ले में निकले ताकि जोहर की नमाज़ वक्क्त पर अदा कर संके।

10,,,राहगीरों,मुसाफिरों,बिरदराने वतन का ख्याल रखें,अपने किसी अमल से उन्हें तकलीफ न पहुचाएं, कानूनी शिकनी से बचें और नज्म जब्त बरकरार रखने में जिला प्रशासन की मदद करें।

11,,,,अपने अपने इलाके में साफ- सफ़ाई का खुसूसी एहतेमाम करें।

12,,, अपने मोहल्ले के गली- कूचों को कुम कुमों और झण्डे बैनर से आरास्ता करें।इस्तकबाल ए ईद मिलादुन्न नबी के लिये जगह जगह बैनर ,झंडे, गेट लगाएं जाएं कोई ऐसा नारा ना लगाएं जिस्से दूसरे अकयाद या मज़हब के लोगों को तकलीफ हो।अगर आपस में ना इतेफाकि हो तो उससे दूर होकर एक दूसरे के बीच मोहब्बत का पैगाम दें।।।।।

नोट--- जुलूस ए ईद मिलादुन्न नबी इस साल अपने अपने हलके (इलाके) मुहल्ले में ही निकाल कर मुहल्ले में ही सलातो सलाम दुआ के बाद खत्म  करें। 

         अलदायी

डॉ मौलाना ताजुद्दीन रिज़वी 

   ।    सदर

 अकिलुर्रह्मान      

 महा सचिव

मो इसलाम

तर्जुमान

सुन्नी बरेलवी सेन्ट्रल कमिटी राँची

मो न0 ,,9835130183

Post a Comment

0 Comments

Hopewell Hospital
Shah Residency IMG
S.R Enterprises IMG
Safe Aqua Care Pvt Ltd Image